कीवर्ड रिसर्च कैसे करें। Keyword Research Kaise Kare

कीवर्ड रिसर्च कैसे करें। Keyword Research Kaise Kare : नमस्कार दोस्तो, आज भारत में हिन्दी ब्लॉगर काफी ज्यादा है जो हिन्दी में अपनी ब्लॉगिंग शुरू करते है। परंतु नयें ब्लॉगर ब्लॉगिंग में कुछ गलती ऐसी करते है जिस पर उनकी पूरी ब्लॉगिंग लाइफ टिकी होती है।

आज के समय में नयें ब्लॉगर कीवर्ड रिसर्च पर बिल्कुल भी काम नहीं करते है जिस कारण उनका ब्लॉग गूगल के अंदर रैंक नहीं कर पाता है। आज के इस आर्टिक्ल में हम आपको कीवर्ड रिसर्च कैसे [ Keyword Research Kaise Kare ] करते है, इसके बारे में विस्तार से बताने वाले है।

कीवर्ड रिसर्च करने के बाद ही हमें पता चलता है की किसी कीवर्ड को सर्च इंजिन में कितने लोगो द्वारा सर्च किया जाता है। उस कीवर्ड को रैंक करवाना कितना कठिन है तथा उस कीवर्ड पर रैंक करने वाली वैबसाइट कितनी अथॉरिटी वाली साइट है। अगर हम कीवर्ड रिसर्च अच्छे से करने के बाद आर्टिक्ल लिखकर ऑन पेज एसईओ कर देते है तो हमारे ब्लॉग के उस कीवर्ड पर रैंक करने के चान्स 70 प्रतिशत तक बढ़ जाते है।

तो चलिये दोस्तो आज के इस आर्टिक्ल में हम कीवर्ड रिसर्च से जुड़ी सभी जानकारी लेते है। अगर आप नयें ब्लॉगर है तो आप हमारे बताए स्टेप पर चलकर अपने ब्लॉग को गूगल में जल्द ही रैंक करवा पाएंगे।

5 मिनट में ब्लॉग कैसे शुरू करें। Blog Kaise Shuru Karen

कीवर्ड रिसर्च बेसिक्स जानकारी। Keyword Research Basic Information

दोस्तो सबसे पहले कीवर्ड रिसर्च से जुड़ी कुछ बेसिक बातों का पता होना जरूरी है ताकि हम एक प्रो ब्लॉगर की तरह आगे कीवर्ड रिसर्च कर सकें। अगर हमें कीवर्ड रिसर्च से जुड़ी जानकारी नहीं है तो हम एक गलत कीवर्ड पर काम करेंगे जो कभी भी रैंक नहीं होगा।

कीवर्ड किसे कहते हैं ? Keyword Kya Hota Hai.

किसी भी सर्च इंजिन के अंदर यूजर के द्वारा भी जानकारी लेने के लिए जो कुछ टाइप करके सर्च किया जाता है उसे कीवर्ड कहते है। कीवर्ड कुछ शब्दों का एक समूह यां फिर अकेला शब्द भी हो सकता है। इसे गूगल के अंदर Query भी कहा जाता है।

Keyword Kya Hota Hai

जैसे आसान भाषा के अंदर समझे तो मैंने गूगल के अंदर कीवर्ड रिसर्च कैसे करें इसके बारे में जानकारी लेनी है तो मैं किसी भी सर्च इंजिन में जाकर “Keyword Kya Hota Hai” लिखुंगा, यह एक कीवर्ड होगा। इसके अलावा कीवर्ड अकेला भी हो सकता है अनेक वर्ड को जोड़कर भी सर्च की गयी Query भी कीवर्ड हो सकता है।

कीवर्ड भी ब्लॉगिंग के अंदर अलग अलग प्रकार के होते है जिनके बारे में हम जानने वाले है।

शॉर्ट-टेल कीवर्ड / Seed Keywords [ Short-Tail Keyword ] –

शॉर्ट टेल कीवर्ड एक सबसे छोटा 1 यां 2 वर्ड का ही कीवर्ड होता है। इस कीवर्ड को एसईओ की भाषा के अंदर Generic Keyword भी कहा जाता है। इस कीवर्ड की सर्च काफी ज्यादा होती है तथा इस कीवर्ड को रैंक करवाना सबसे मुश्किल काम होता है।

जैसे हम गूगल पर SEO लिखते है तो यह एक शॉर्ट टेल कीवर्ड है। शॉर्ट टेल कीवर्ड के कुछ उदाहरण देखकर आप समझ सकते हा जैसे – News, Boys Shoes, SEO, Keyword, Facebook आदि

मिड-टेल कीवर्ड [ Mid-Tail Keyword ] –

मिड टेल कीवर्ड 2 यां फिर 3 वर्ड से मिलकर बना हुआ एक कीवर्ड होता है जिसकी सर्च वॉल्यूम थोड़ी कम होती है परंतु इस प्रकार के कीवर्ड को एक अच्छी अथॉरिटी वाले ब्लॉग यां वैबसाइट तथा वैबसाइट काफी पुरानी है तो आप काफी मेहनत करके इस प्रकार के कीवर्ड को एक लंबे टाइम के बाद रैंक करवा सकते है।

इस प्रकार के कीवर्ड को मीडियम और लो अथॉरिटी वाली वैबसाइट यां ब्लॉग की मदद से रैंक करवाना मुश्किल ही नहीं काफी कठिन भी है। इस प्रकार के कीवर्ड कुछ इस प्रकार से होते है जैसे – On Page SEO, Best Running Shoes यां फिर Black Colour Car आदि।

लॉन्ग-टेल कीवर्ड [ Long-Tail Keyword ] –

लॉन्ग टेल कीवर्ड के अंदर आपको ट्रेफिक तथा कंपीटीशन दोनों ही कम मिलते है, इस प्रकार के कीवर्ड 4 वर्ड से ज्यादा वर्ड को जोड़कर एक लॉन्ग टेल कीवर्ड बना होता है।

अगर आप नयें ब्लॉगर है तो आप इस प्रकार के कीवर्ड पर काम करके बड़ी आसानी से रैंक करवा सकते है। इस प्रकार के कीवर्ड एक स्पेसिफिक जानकारी से जुड़े होते है तथा इनका कन्वर्शन सबसे ज्यादा होता है।

जैसे Best Nike Black Shoes for Boys एक लॉन्ग टेल कीवर्ड है इस कीवर्ड को जो यूजर सर्च करता है वह Nike Company के Black Color के Shoes जो लड़कों के लिए है उनके बारे में सर्च कर रहा है।

इस प्रकार के कीवर्ड अगर आप Affiliate Marketing के अंदर करते है तो आपका कन्वर्शन काफी ज्यादा होगा। इन कीवर्ड को रैंक करवाना नयें ब्लॉगर के लिए आसान होता है इसलिए ज़्यादातर बड़े ब्लॉगर यही कहते है की आप लॉन्ग टेल कीवर्ड पर अपना आर्टिक्ल लिखें।

इस प्रकार के कीवर्ड पर अगर नयें ब्लॉगर जिनके ब्लॉग की अथॉरिटी कम है काम करके रैंक करवा सकते है जिसके बाद अथॉरिटी अच्छी होने के बाद आपके कीवर्ड शॉर्ट टेल में भी रैंक करने लग जाते है।

लॉन्ग टेल कीवर्ड के उदाहरण – Best Free Keyword Research Tools for Blogger, Top 10 Mobile Phone Under 10000 Rupees in India, Best Website Designing Company in Jaipur.    

Types of Keyword in Hindi-min

तो अब आप लॉन्ग टेल, मिड टेल तथा हैड कीवर्ड के बारे में समझ गए होंगे तथा अपने ब्लॉग पर आप किस प्रकार के कीवर्ड पर कम करें इसके बारे में एक अंदाज आपको लग गया होगा।

Keyword Research Kya Hai. Keyword Research Kya Hota Hai.

अगर आप ब्लॉगर है यां एसईओ सीखना चाहते है तो आपको कीवर्ड रिसर्च के बारे में जानकारी होना सबसे जरूरी है। कीवर्ड रिसर्च एक ऐसी टर्म होती है जिसके अंदर हम अपने ब्लॉग के लिए कीवर्ड रिसर्च करते है। ब्लॉगिंग के अंदर कीवर्ड रिसर्च का सबसे अहम रोल होता है जिससे हमारे ब्लॉग पर सर्च इंजिन से ट्रेफिक कहाँ से आएगा।

कीवर्ड रिसर्च एक प्रोसैस होती है जिसमें हम यह जानने की कोशिश करते है की जिस कीवर्ड पर हमने ब्लॉग को गूगल के अंदर रैंक करवाना चाहते है उसकी हर महीने कितनी सर्च वॉल्यूम है, उस कीवर्ड को रैंक करवाना कितना कठिन है।

सर्च इंजिन के अंदर जो वैबसाइट यां ब्लॉग पर रैंक कर रही है उनकी अथॉरिटी कितनी है वैबसाइट कितनी पुरानी है। इस सभी बातों को ध्यान में रखकर हम अपने ब्लॉग के लिए एक अच्छा कीवर्ड रिसर्च करते है।

गूगल के अंदर 90 प्रतिशत वैबसाइट पर गूगल से बिल्कुल भी ट्रेफिक नहीं आती है क्योंकि इन वैबसाइट पर बिना किसी कीवर्ड रिसर्च के आर्टिक्ल लिखे जाते है यां एसईओ के अंदर कीवर्ड के बारे में ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता है।

What is Keyword Research in Hindi

कीवर्ड रिसर्च की मदद से ही हमें ब्लॉगिंग में किसी कीवर्ड को रैंक करवाने से जुड़े कुछ सवाल का जवाब मिल पता है जैसे

  • किसी भी कीवर्ड को रैंक करवाना कितना कठिन है?
  • उस कीवर्ड पर हर महीने कितने सर्च होते है तथा अगर मेरा ब्लॉग उस कीवर्ड पर पहले नंबर पर रैंक करता है तो  मेरे ब्लॉग पर कितना ट्रेफिक आएगा।
  • कीवर्ड पर किस प्रकार का कंटैंट लिखे ही मेरे गूगल के अंदर रैंक करने के चांस सबसे ज्यादा हो, तथा टार्गेट कीवर्ड पर आर्टिक्ल को रैंक करवाने के लिए कितने बैकलिंक की जरूरत होगी।
  • मैं जिस कीवर्ड पर अपना आर्टिक्ल लिख रहा हूँ उस कीवर्ड की मदद से मेरी Affiliate यां फिर सेल हो पाएगी यां नहीं।

इस प्रकार के प्रश्न की जानकारी आपको कीवर्ड रिसर्च करने के बाद में ही मिलने वाली है।

अपने ब्लॉग के लिए कीवर्ड आइडिया कैसे ढूँढे। How to Find Keyword Idea for Blog.

दोस्तो आपको अपने ब्लॉग के लिए कीवर्ड आइडिया ढूँढने में शुरुआत में काफी ज्यादा दिक्कत आती है। हम सोचते है की हम अपने ब्लॉग के लिए कीवर्ड आइडिया कैसे ढूँढे।

अगर आप अपने ब्लॉग के लिए कीवर्ड रिसर्च करने के बारे में सोच रहे है तो आपको कीवर्ड आइडिया होना जरूरी है। कीवर्ड आइडिया के लिए आपको अपने ब्लॉग के निश से जुड़ी जानकारी होना जरूरी है।

ताकि आप उस निश से जुड़े कुछ मैन कीवर्ड रिसर्च करके उससे जुड़े अन्य कीवर्ड के बारे में जानकारी ले सकते है। इसके अलावा काफी सारी ऐसी वैबसाइट है जहां से आप अपनी कैटेगरी से जुड़े कीवर्ड को ढूंढ सकते है।

गूगल की मदद से –

आपके लिए कीवर्ड आइडिया ढूँढने के लिए सबसे ज्यादा गूगल मदद करेगा। गूगल पर आपको अपनी कैटेगरी के अनेक कीवर्ड ऑटोसजेस्न में देखने को मिल जाएंगे। आप गूगल में जाकर अपने ब्लॉग के निश से जुड़ा कोई भी कीवर्ड सर्च करते है तो आपको वहाँ पर एक कीवर्ड डालने के बाद उससे जुड़े अन्य लॉन्ग टेल आइडिया देखने को मिल जाएगे।

कोरा की मदद से कीवर्ड आइडिया ढूँढे –

ब्लॉगिंग के अंदर आपके ब्लॉग पर ट्रेफिक लाने, कंटैंट आइडिया, कीवर्ड आइडिया लाने के लिए कोरा का सबसे अहम रोल है। अगर आप एक ब्लॉगर है तो सबसे पहले अपना कोरा पर अकाउंट बनाकर कोरा पर जरूर एक्टिव हो। उसके बाद आपने अपने ब्लॉग से जुड़े मंच को जॉइन करना है।

कोरा पर अनेक ऐसे लोग होते है जो सवाल जवाब करते है कोरा पर आपको अनेक ऐसे नयें सवाल मिल जाएंगे। इन सवालों की मदद से आप अपने ब्लॉग के लिए कंटैंट आइडिया लेकर उससे जुड़े कीवर्ड आइडिया ले सकते है। कोरा एक ऐसा प्लैटफ़ार्म है जो आपको अपने ब्लॉग के लिए करोड़ों में कीवर्ड आइडिया दे सकता है। अगर आप कोरा पर हर रोज 20 मिनट भी एक्टिव रहते है तो आपको अपने ब्लॉग पर कंटैंट लिखने के लिए यह सोचने की कभी जरूरत नहीं होगी की मैं किस टॉपिक पर आर्टिक्ल लिखूँ।

Quora se Keyword Idea kaise le

कोरा पर आपको जो कीवर्ड मिलते है यां कंटैंट आइडिया मिलता है वह हाइ सर्च वॉल्यूम वाले नहीं होते है। परंतु इन कीवर्ड से आपको अपने ब्लॉग पर एक आर्टिक्ल लिखने का नया कीवर्ड आइडिया मिल जाएगा।

Reddit से कीवर्ड आइडिया –

कोरा की तरह ब्लॉगर भी आपके लिए कीवर्ड आइडिया लेने के लिए सबसे अच्छे प्लैटफ़ार्म में से एक है। जहां पर आपको हाइ क्वालिटी का कंटैंट देखने को मिलेगा। Reddit में आपको अनेक लोगो के द्वारा पुछे गए क्वेस्चन मिलेंगे। आप यहाँ अपने ब्लॉग निश से जुड़े ग्रुप जॉइन कर लें जहां पर आपकी कैटेगरी के अनेक Keyword Idea मिल जाएंगे।

सोश्ल मीडिया से कीवर्ड आइडिया लें –

ब्लॉगिंग के अंदर कंटैंट पर ट्रेफिक लाने ब्लॉग को ब्रांड बनाने तथा कीवर्ड, कंटैंट आइडिया के लिए सोश्ल मीडिया सबसे महत्वपूर्ण है। यहाँ पर अनेक ऐसे ग्रुप आपको मिल जाएंगे जिसमें आपके ब्लॉग से निश से जुड़े टॉपिक शेयर किए जाते होंगे। यहाँ आप अपने ब्लॉग के लिए कीवर्ड आइडिया ले सकते है।

फ़ेसबुक पर अनेक ब्लॉगिंग से जुड़े ग्रुप होते है जिनमें हर रोज नयें ब्लॉगर ब्लॉगिंग से जुड़ी किसी न किसी प्रकार की जानकारी पुछते है यही से मुझे अपने ब्लॉग के लिए कंटैंट आइडिया मिलता है।

कंपीटिटर के ब्लॉग से –

आपके लिए सीखने का सबसे बड़ा कोई सोर्स है तो आपके अपने कंपीटिटर ब्लॉग है जहां से आप अपने ब्लॉग के लिए कीवर्ड आइडिया ले सकते है। अनेक ऐसे ब्लॉग है जिनके कीवर्ड यह आर्टिक्ल देखकर उससे अच्छी क्वालिटी का आर्टिक्ल पोस्ट कर सकते है।

इसके अल्वा भी अनेक ऐसे कीवर्ड रिसर्च टूल्स है जिसकी मदद से आप अपने ब्लॉग के लिए कीवर्ड आइडिया फाइंड कर सकते है।

कीवर्ड रिसर्च के लिए बेस्ट पैड टूल्स

अगर आप ब्लॉगिंग करते है तो आपको कीवर्ड रिसर्च करने के लिए कीवर्ड रिसर्च करने के लिए टूल्स का होना जरूरी है। यहाँ हम आपको कुछ ऐसे पैड टूल्स के बारे में बताने वाले है जो आपको कीवर्ड रिसर्च करने में मदद करने वाले है।

Ahrefs –

अगर आप अपने ब्लॉग के लिए कीवर्ड रिसर्च करना चाहते चाहते है और ब्लॉगिंग में नयें है तो आपको बता दूँ की Ahrefs Tools आपके लिए सबसे अच्छा टूल है। इस टूल्स को आप अगर पहली बार इस्तेमाल करते है तो आपको इसका इंटरफ़ेस देखने में एकदम यूजर फ्रेंडली लगेगा।

Ahrefs काफी ज्यादा महंगा टूल्स है परंतु अगर आप ahrefs टूल्स को 299 रुपए में एक महीने के लिए यहाँ पर क्लिक करके खरीद सकते है।

Buy Ahrefs Keyword Research Tools

SEMRUSH –

ब्लॉगर के लिए यह टूल्स भी पैड टूल्स में सबसे ज्यादा अच्छा टूल है जिसकी मदद से आप ब्लॉग के लिए कीवर्ड रिसर्च कर सकते है। परंतु अगर आप पहली बार कीवर्ड रिसर्च करने के लिए इस टूल्स को खरीदने की सोच रहे है तो यह आपके लिए अच्छा टूल्स नहीं है।

क्योंकि Semrush Tools को यूज करने के लिए आपको इसका इंटरफ़ेस समझना होगा।

Keyword IO Tools –

अगर आप हिन्दी ब्लॉगर हा तो ब्लॉगिंग के अंदर हिन्दी कीवर्ड ढूँढने के लिए कीवर्ड आईओ टूल्स का इस्तेमाल जरूर करें। इस टूल्स की मदद से आप किसी भी हिन्दी कीवर्ड की सर्च वॉल्यूम, डिफिकल्टी तथा उस कीवर्ड के कंपीटीशन के बारे में सारी जानकारी मिल जाती है।

यह टूल्स हिन्दी ब्लॉगर को जरूर इस्तेमाल करना चाहिए आप इस टूल्स को 149 रुपए में मेरे लिंक से एक महीने के लिए खरीद सकते है।

कीवर्ड को एनालिसिस कैसे करें। How to Analyze Keywords

दोस्तो किसी भी कीवर्ड की एनालिसिस करना सबसे जरूरी है ताकि हम अपने ब्लॉग के लिए एक अच्छा कीवर्ड ढूंढ सके। इंटरनेट पर ऐसे अनेक कीवर्ड मिल जाएंगे, परंतु हम किस कीवर्ड पर आर्टिक्ल लिखे की हमारा आर्टिक्ल गूगल पर रैंक करे और हमें अच्छा ट्रेफिक भी मिले।

एक कीवर्ड को एनालिसिस करने के लिए हमें कुछ बातों का ध्यान रखना होता है हम यहाँ पर आपको एक कीवर्ड की एनालिसिस करने के लिए ahrefs टूल्स का इस्तेमाल करने वाले है।

मैं अपने ब्लॉग के लिए अच्छा कीवर्ड ढूंढते समय Ahrefs में सबसे ज्यादा चार फ़िल्टर का इस्तेमाल करता हूँ। यहाँ मैं आपको उन चार फ़िल्टर की मदद से एक अच्छे कीवर्ड को फाइंड करने के बारे में बताने वाला हूँ।

  • सर्च वॉल्यूम
  • क्लिक
  • कीवर्ड डिफिकल्टी

सर्च वॉल्यूम / Search Volume –

अगर आप किसी कीवर्ड पर आर्टिक्ल लिखना चाहते है तो उस कीवर्ड की सर्च वॉल्यूम के बारे में आपको सर्च जरूर करना चाहिए। सर्च वॉल्यूम की मदद से हमें पता चलता है की उस कीवर्ड पर हर महीने लगभग कितने लोगो के द्वारा सर्च किया जाता है।

इसलिए किसी भी कीवर्ड पर अपने ब्लॉग को रैंक करवाने के लिए उस कीवर्ड की सर्च वॉल्यूम के बारे में पता होना जरूरी है। क्योंकि आपने किसी ऐसे कीवर्ड को फाइंड कर लिया जिसकी कीवर्ड सर्च वॉल्यूम बिलकुल ना के बराबर है तो आपका ब्लॉग उस कीवर्ड पर रैंक करने के बाद भी ट्रेफिक नहीं ले पाएगा।

शुरुआत में हमें उन कीवर्ड पर बिलकुल भी फोकस नहीं करना चाहिए जिनकी सर्च वॉल्यूम बहुत ज्यादा हो क्योंकि ऐसे कीवर्ड पर सबसे ज्यादा कंपीटीशन होता है। इसलिए आपने नयें ब्लॉग पर यान फिर कम अथॉरिटी वाली वैबसाइट के लिए ऐसे कीवर्ड ढूँढने है जिनकी सर्च वॉल्यूम आपको एक ठीक ठाक ट्रेफिक दे सके।

अगर आपका नया ब्लॉग है तो आप ahrefs के अंदर सर्च वॉल्यूम वाले फ़िल्टर का इस्तेमाल जरूर करें। इसके अंदर आप 100 की सर्च वॉल्यूम से लेकर 10000 हजार तक सेट कर सकते है। ताकि आपको जो कीवर्ड मिले, उसकी वॉल्यूम 10000 से ज्यादा न हो तथा 100 से कम न हो। इसके अलावा आपको बता दें की आपका आर्टिक्ल किसी एक कीवर्ड की बजाय अनेक कीवर्ड पर भी रैंक करता है।

आपको सर्च वॉल्यूम को देखते समय कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी है :-

  • यहाँ पर आपको जो सर्च वॉल्यूम दिखाई जाती है वह सर्च इंजिन में सर्च किए गए कीवर्ड की जानकारी होती है न की कितने लोगो द्वारा इस कीवर्ड को सर्च किया गया है। क्योंकि कुछ कीवर्ड जैसे Sri Ganganagar Weather Report को काफी सारे लोग काफी बार सर्च करते है।
  • यहाँ आपको जो सर्च वॉल्यूम दिखाई जाती है उसका मतलब यह नहीं है आपके ब्लॉग पर उतना ट्रेफिक आएगा क्योंकि गूगल के पहले पेज पर फ़र्स्ट नंबर पर रैंक करने वाले कीवर्ड को लगभग 27 प्रतिशत ट्राफ़्फ़िफ मिलता है। परंतु इसके अलावा गूगल में टॉप 1 पर रैंक करने वाला कीवर्ड अनेक कीवर्ड पर रैंक करता है जिससे उन कीवर्ड से भी आर्टिक्ल पर ट्रेफिक आता है।
  • यहाँ पर आपको जो डाटा दिखाया जाता है वह बिलकुल सही नहीं होता है बल्कि एक एस्टीमटेड डाटा होता। हर कीवर्ड सर्च टूल्स के द्वारा सर्च वॉल्यूम प्रत्येक कीवर्ड की अलग अलग दिखाई जाती है।
  • अगर आप अपने ब्लॉग पर छोटे आर्टिक्ल लिखते है तो आपको कम सर्च वॉल्यूम वाले कीवर्ड को ही टार्गेट करना चाहिए क्योंकि आप कम सर्च वॉल्यूम वाले कीवर्ड पर आर्टिक्ल लिखकर ऑन पेज एसईओ के साथ बड़ी आसानी से रैंक करवा पाते है।

मैं आपको सलाह दूंगा की आप अगर सर्च वॉल्यूम फ़िल्टर इस्तेमाल करते है तो इन ऊपर बताई बातों का जरूर ध्यान दें।

क्लिक / Clicks –

आपको एक अच्छा कीवर्ड फाइंड करते समय क्लिक के बारे में जरूर जानना चाहिए। क्योंकि क्लिक की मदद से हमें पता चलता है की जिस कीवर्ड पर आर्टिक्ल लिख रहे है उस कीवर्ड पर सर्च करने के बाद आने वाले रिज़ल्ट पर लोग क्लिक भी करते है यान फिर बिना क्लिक किए ही चले जाते है।

यहाँ पर आपको कितने पैड क्लिक हो रहे है कितने ऑर्गैनिक क्लिक आ रहे है इसके बारे में जानकारी होनी चाहिए। ताकि आपको पता चल सके की आप इस कीवर्ड पर ऑर्गैनिक तरीके से अपने ब्लॉग पर कितने क्लिक ला सकते है। कुछ कीवर्ड पर ज्यादा एड्स वाले रिज़ल्ट आते है जिससे क्लिक होने के चान्स कम हो जाते है।

अगर आप किसी ऐसे कीवर्ड पर आर्टिक्ल लिखते है जिसकी सर्च वॉल्यूम तो अच्छी है परंतु उस कीवर्ड पर क्लिक बिलकुल भी नहीं है तो आपको उस कीवर्ड पर आर्टिक्ल लिखने का कोई फायदा नहीं होने वाला है।

क्योंकि आप उस कीवर्ड पर आर्टिक्ल रैंक तो करवा लेंगे परंतु जब कोई यूजर गूगल पर उस कीवर्ड के बारे में सर्च करेगा परंतु आपका रिज़ल्ट गूगल में आने के बाद वह उस रिज़ल्ट पर क्लिक नहीं करेगा। इससे आपका ब्लॉग पहले पेज पर टॉप रैंक करने के बाद ट्रेफिक लाने में बिलकुल काम नहीं आएगा।

इसलिए अपने ब्लॉग के लिए आर्टिक्ल फाइंड करते समय क्लिक वाले फ़िल्टर में आप सिलैक्ट कर सकते है की आपके सामने जो भी कीवर्ड की लिस्ट आए उसमें सिर्फ 50 से लेकर 10000 क्लिक वाले ही कीवर्ड आने चाहिए।

कीवर्ड डिफिकल्टी / Keyword Difficulty –

कीवर्ड डिफिकल्टी के बारे में जानना आपके लिए सबसे ज्यादा जरूरी है। ब्लॉगिंग के अंदर कीवर्ड की डिफिकल्टी के द्वारा हमें पता चलता है की इस कीवर्ड को हम अपने ब्लॉग पर कितनी आसानी से रैंक करवा सकते है। कीवर्ड फ़िल्टर की मदद से हम ahrefs में कम कंपीटीशन वाले कीवर्ड को फाइंड कर सकते है।

अगर आपका ब्लॉग नया है तो आपको अपने नयें ब्लॉग के लिए कीवर्ड फाइंड करते समय 5 से कम डिफिकल्टी वाले कीवर्ड फ़िल्टर को इस्तेमाल करना चाहिए।

इससे आपको ahrefs में वही कीवर्ड दिखाई देंगे जो लॉ कंपीटीशन वाले होंगे तथा जिनहे एक नयें ब्लॉग पर बैकलिंक के द्वारा बड़ी आसानी से रैंक करवाया जाए। इसके अलावा कम अथॉरिटी वाला ब्लॉग सिर्फ उनही कीवर्ड पर रैंक कर सकता है जिन पर ज्यादा लोग आर्टिक्ल न लिख रहे हो।

अगर आप ahrefs का इस्तेमाल करते है तो इन फ़िल्टर का इस्तेमाल जरूर करें ताकि आपके ब्लॉग पर जल्दी रैंक करने वाला कीवर्ड आपको बड़ी आसानी से मिल सके।

गोल्डन कीवर्ड कैसे ढूँढे। How to Find Golden Keyword in Hindi.

अगर आप अपने ब्लॉग के लिए एक ऐसा कीवर्ड ढूँढना चाहते है तो आपको एक गोल्डन कीवर्ड ढूँढना होगा। आपके ब्लॉग के लिए एक गोल्डन कीवर्ड वही होता है जिस पर हम काम करके बड़ी आसानी से रैंक करवा सके। गोल्डन कीवर्ड ऐसा कीवर्ड होता है जिसकी डिफिकल्टी कम और सर्च वॉल्यूम क्लिक ज्यादा हो ताकि आप उस ब्लॉग पर अपनी मेहनत करके कंटैंट लिखे तो वह कंटैंट रैंक करे।

How to find a golden keyword for blog

आज हम आपको Ahrefs Keyword Research Tools की मदद से एक गोल्डन कीवर्ड ढूंढेगे, जिस पर आप अपनी मेहनत करके बड़ी आसानी से कंटैंट लिखकर रैंक करवा सके। इसके लिए आप सबसे पहले यहाँ क्लिक करके 299 रुपए में कीवर्ड रिसर्च टूल Ahrefs को खरीद लें।

उसके बाद आपने Ahrefs के अंदर जाकर Keyword Explore के ऑप्शन में जाना है। यहाँ आपने कुछ ऐसा कीवर्ड लिखना है जिससे जुड़े कीवर्ड आपके सामने आ जाएँ।

मैंने यहाँ पर How लिखकर सर्च किया है, जिसके बाद मेरे सामने सिर्फ How से जुड़ी डिटेल्स देखने को मिलेगी। मैंने यहाँ पर Having Same Term पर क्लिक कर देना है।

अब इसमें आप सबसे पहले कीवर्ड डिफिकल्टी को 0 से लेकर 5 तक सिलैक्ट करके Apply कर दें। उसके बाद आपने वॉल्यूम में जाकर 100 से लेकर 10000 तक की वॉल्यूम को डाल देना है और Apply कर देना है। यहा आप अपने ब्लॉग की कैटेगरी के हिसाब से डाल सकते है।

अब यहाँ आपके सामने कुछ ऐसे कीवर्ड आ जाएंगे जिनमें आपने अपनी पसंद के कीवर्ड को अलग अलग Window में ओपन कर लेना है। इसमें आपने SERP Overview में जाकर देखना है।

यहाँ अगर आपको गूगल में रैंक करने वाली टॉप 10 वैबसाइट दिखाई देगी, अगर आपको यहाँ टॉप 10 रैंक कर रही वैबसाइट में कोई ऐसा आर्टिक्ल दिखे जो Quora, Medium, Facebook का कंटैंट यां फिर Pinterest के पिन, यूट्यूब की विडियो दिखाई दे तो आप उस कीवर्ड पर आर्टिक्ल जरूर लिखे। क्योंकि यही वह गोल्डेन कीवर्ड होता है जिस पर आप कंटैंट लिखकर अपने ब्लॉग को रैंक करवा सकते है।

इस प्रकार आप एक अच्छा गोल्डन कीवर्ड ढूंढकर उस पर आर्टिक्ल लिखकर उसे बड़ी आसानी के साथ ऑन पेज एसईओ की मदद से भी रैंक करवा सकते है।

आपको मैं एक सलाह दूंगा जो मैंने एक साल ब्लॉगिंग में धक्के खाकर सीखिए है। आप उस कीवर्ड पर आर्टिक्ल जरूर लिखे जिस कीवर्ड पर यूट्यूब विडियो, कोरा के जवाब, Pinterest के पिन यां फिर मीडियम के आर्टिक्ल रैंक करते हो।

इसके अलावा अगर कोई ऐसी वैबसाइट रैंक करे जो इनमें से न हो और उसकी अथॉरिटी ज्यादा हो तो आपको उस कीवर्ड पर आर्टिक्ल लिखने का कोई फायदा नहीं है।

किस कीवर्ड पर आर्टिक्ल लिखें।

आपको कीवर्ड रिसर्च टूल्स की मदद से ढूँढने पर अनेक ऐसे कीवर्ड मिला जाएंगे जो आपको गोल्डन कीवर्ड लगेंगे परंतु वे कीवर्ड असल में गोल्डन कीवर्ड नहीं होंगे। इसके लिए आपको सर्च ईंटेंट के बारे में पता होना सबसे जरूरी है तो चलिये जानते है।

सर्च  ईंटेंट / Search Intent –

अगर आप एक सही सर्च ईंटेंट के साथ कीवर्ड नहीं ढूँढेंगे तो आपको कीवर्ड रिसर्च करने के बाद भी कोई फायदा नहीं होने वाला है। इसे मैं आपको उदाहरण की मदद से समझाता हूँ।

मान लीजिये आपने एक कीवर्ड Facebook Log in ढूंढा जिसकी सर्च वॉल्यूम काफी है तथा कीवर्ड डिफिकल्टी भी जीरो है परंतु इसके बावजूद आप इस कीवर्ड पर रैंक नहीं करवा पाएंगे। क्योंकि इस कीवर्ड को सर्च करने के बाद यूजर facebook में लॉग इन करना चाहता है न की आर्टिक्ल पढ़ना चाहता है। साथ ही इस कीवर्ड का मकसद फेसबुक की वैबसाइट पर जाकर लॉगइन करने का है इसलिए सिर्फ यूजर facebook  वाले लिंक पर ही क्लिक करेंगे।

जब भी आप आर्टिक्ल लिख रहे है तो हमेशा Informativ keyword पर अपना आर्टिक्ल लिखे जैसे – How to Delete Fecebook Account.

अगर आप किसी ऐसे कीवर्ड Red Color Shoes Image पर अपना आर्टिक्ल लिखङ्गे तो कभी रैंक नहीं करेगा क्योंकि गूगल इस कीवर्ड पर सिर्फ उन वैबसाइट को रैंक करवाने वाला है जिनमें Rad Color के शूज की इमेज होगी।

इसलिए हमेशा कीवर्ड रिसर्च करते समय इन बातों का शयन रखकर ही एक कीवर्ड ढूँढे और उस कीवर्ड पर अपना आर्टिक्ल लिखें।

निष्कर्ष –

दोस्तो आज के इस आर्टिक्ल में हमने आपको कीवर्ड क्या होता है कीवर्ड रिसर्च कैसे किया जाता है एक नयें ब्लॉगर को किस कीवर्ड पर अपना आर्टिक्ल लिखना चाहिए ये सभी जानकारी शेयर की है। अगर आप नयें ब्लॉगर है और मेरे इस आर्टिक्ल में बताई गयी बात को ध्यान में रखकर कीवर्ड रिसर्च करते है तो आपका आर्टिक्ल गूगल के अंदर जरूर रैंक करने वाला है।

Leave a Comment